Skip to main content

भयानक कर्कट रोग कैंसर

Web -gsirg.com
भयानक कर्कट रोग कैंसर
इस संसार में प्राणलेवा रोगों में अनेक रोगों का नाम लिया जा सकता है जैसे HIV पॉजिटिव होना , डेंगू , ब्लडप्रेशर , चेचक और कैंसर आदि | इन सभी मारक रोगों में कैंसर का महत्वपूर्ण स्थान है | यह एक दुष्ट रोग है , तथा जिस भी प्राणी को यह रोग हो जाता है , उसे अपने जीवन का अंत निकट दिखाई पड़ने लगता है | क्योंकि अभी तक पूर्ण रूप से इस के सफल और सटीक इलाज की खोज नहीं हो पाई है | केवल आयुर्वेद ही इसकी सफल चिकित्सा करने में पूरी कामयाबी हासिल कर सका है | आज हम इस रोग के बारे में जानकारी प्राप्त करेंगे , और उसके सफल इलाज का वर्णन भी करेंगे |
कारण
आयुर्वेद में कैंसर को बड़े ही सूक्ष्म रूप में इसका सफल अध्ययन किया है | आयुर्वेद में कैंसर को रक्तार्बुद के नाम से जाना जाता है | पहले इसे असाध्य रोग माना जाता था | इस रोग की सही जानकारी होने पर रोगी परेशान होकर इस संसार से जाने की तैयारी करने की सोचने लगता है | प्राचीन समय में इस रोग के रोगी '' न '' के बराबर मिलते थे , परंतु आजकल इसका उग्र रूप सामने आ रहा है | इसका प्रमुख कारण है, लोगों का ''प्रकृति के विपरीत '' आचरण करना , तथा शरीर में हो रहे अस्वाभाविक परिवर्तनों पर ध्यान न देना है | रोग के आरंभ में शरीर में एक साधारण सी गांठ होती है | जिस पर लोग ध्यान नहीं देते हैं | बाद में इसका नजरंदाज करना उसे भारी पड़ जाता है | लंबे समय के उपरांत जब इस गांठ का परीक्षण किया जाता है तब उस व्यक्ति ने का पता चलता है कि उसे कैंसर रोग चुका है |
कैंसर के प्रकार
इस रोग के परीक्षण हेतु आधुनिक चिकित्सक सूक्ष्मदर्शी यंत्र द्वारा या फिर अन्य रासायनिक परीक्षणों द्वारा इस रोग की जानकारी प्राप्त करते हैं | उन्होंने कैंसर को दो प्रकारों में बांटा है | पहली प्रकार के कैंसर को बेनाइन या निर्दोष कैंसर कहते हैं , तथा दूसरे प्रकार के कैंसर को मैंलिगनेंट या घातक कैंसर कहते हैं | इनमें से पहले प्रकार के रोगियों की चिकित्सा करने पर सफलता प्राप्त हो जाती है | लेकिन दूसरे प्रकार के रोगी असाध्य होते हैं | इसप्रकार के रोगियों के उपचार का तरीका भी जटिल होता है | इस रोग में चिकित्सक को पहले यह पता लगाना पड़ता है कि रोग किस स्तर पर है | चिकित्सा से प्रारंभिक स्तर का रोगी ठीक हो सकता है , परंतु दूसरे और तीसरे प्रकार के रोगी को ठीक करना लगभग असंभव होता है |
लक्षण
कैंसर के लक्षणों के आधार पर ही प्रारंभिक अवस्था में यह जाना जाता है कि रोगी के शरीर में कहीं पर गाँठ है या नहीं | यदि शरीर में कोई गांठ है जो ज्यादा समय से है और ठीक नहीं हो रही है तो कैंसर हो सकता है | इसके अलावा रोगी में रक्त कणिकाओं की कमी , दुर्बलता की वृद्धि तथा बेचैनी की वृद्धि भी परिलक्षित होती है | इस रोग में व्यक्ति के वातावरणीय कारक और दूषित रहन-सहन का परिवेश भी जिम्मेदार है | इसीलिए हर स्थान पर इसरोग के एक जैसे लक्षण पाया जाना नहीं देखा गया है | प्रारम्भ में इस रोग में प्रमुख रुप से जीभ , स्तन , तालु , दांत , नाक , आंख , अन्ननलिका , पेट , स्त्री जननेंद्रिय , पैर की उंगलियों और चमड़ी आदि प्रभावित होती है | आयुर्वेद में इस रोग की उत्पत्ति का कारण मिथ्या आहार-विहार तथा प्रज्ञापराध को माना है | धूम्रपान , मदिरापान और तरह-तरह के नशे भी इसका कारण हो सकते हैं | इसलिए रोगी को इनका उपयोग तुरंत ही बंद कर देना चाहिए |
अनुभूत और परीक्षित इलाज
इस रोग के रोगी को चाहिए कि वह प्रतिदिन देसी गाय का मूत्र इकट्ठा करें | इस मूत्र को किसी 8 परत वाले सूती कपड़े से छानकर साफ करें | इसके बाद इसकी लगभग एक कप मात्रा प्रातः पी लिया करे | इसी प्रकार शाम को भी एक कप पी लिया करें | इस बात को गांठ बांध लें गाय का मूत्र कोई ऐसी वैसी चीज नहीं है | यह एक चमत्कारिक औषधि भी है | कैंसर पीड़ित व्यक्ति के शरीर में एक तत्व की विशेष रुप से कमी हो जाती है | इस तत्व को करक्यूमिन कहा जाता है | जिसकी प्रचुर मात्रा गाय के मूत्र में मौजूद होती है , जो कैंसर रोग की जड़ों को ही नष्ट कर देती है | करक्यूमिन तत्व केवल गाय के मूत्र में या फिर हल्दी में ही पाया जाता है | इसलिए गाय का मूत्र पीने में बिल्कुल हिचक न करें | लोग तो इससे भी बेकार जायके वाली और दुर्गंध तथा सड़ांध से परिपूर्ण मदिरा को केवल मनोरंजन के लिए पी जाते हैं | पर आप तो चिकित्सा कर रहे हैं , आपको तो भयंकर जानलेवा बीमारी से छुटकारा पाना है , फिर ऐसे आपको पीने में क्या कष्ट है | थोड़ा सा धैर्य धारण करें , मन की गंदगी साफ करें , और इसे जीवन अमृत समझ कर पी लें | यह औषधि तो आप का कष्ट हरण करने वाली है | इसलिए कोई झिझक , बिना किसी हीलहुज्जत के इसका सेवन कर ही लें | इस हेतु किसी प्रकार का विचार बिल्कुल ही न करें | आप पूरा विश्वास करें कि आपको इस औषधि से ठीक होना ही है | कैंसर आप का कुछ नहीं बिगाड़ सकता है | उसे तो ठीक होना ही पड़ेगा | हाँ अगर आपको शरीर को गोमूत्र से ज्यादा प्यार करते हैं तो इसे बिलकुल ही न पियें और किसी भी मरने के लिए तैयार रहें , क्योंकि मौत तो आपका इन्तजार कर ही रही है | अपने जीवन ,मरण का फैसला तो आपको ही करना है | यह एक ऐसा नुस्खा है जिसे अनेकों लोगों पर अपनाया जा चुका है तथा इसके सफल परिणाम भी मिले हैं |🔺

🔻 पूरक चिकित्सा
उपरोक्त चिकित्सा से आपका ठीक होने की गारंटी लेता है | पर यह औषधि करने के साथ ही रोगी को चाहिए कि वह रात में सोते समय 7 से 10 ग्राम पिसी हल्दी का चूर्ण मुंह में डालकर धीरे-धीरे उसे पेट के अंदर करता जाए | इस प्रक्रिया में उसे लगभग 15 मिनट लगाना चाहिए | आप चाहे तो प्रारंभ हमें इसकी कम मात्रा लेकर के करके इसे खाने का अभ्यास करें , बाद में पूरी मात्रा का सेवन करते रहें | [ यह आपकी इच्छा पर निर्भर करता है की आप पूरक इलाज करें अथवा न करे , तो आप केवल से ही हो जायेंगे ] अगर आपको मृत्यु के मुख से बचना है तथा कैंसर पर विजय पानी है तो , आपको यह करना ही होगा इसके अलावा कोई दूसरा रास्ता भी तो नहीं है | यदि आप पूरी लगन और श्रद्धा के साथ इस औषधि का प्रयोग करते हैं तो आप का कैंसर पर विजय प्राप्त करना निश्चित है |
जय आयुर्वेद
Web - gsirg.com

Comments

Popular posts from this blog

Holi colors with hubbub ;- होली के रंग, हुड़दंग के संग

helpsir.blogspot.com. Holi colors with hubbub ;- होली के रंग, हुड़दंग के संग आदरणीय सम्पादक जी
                           सादर प्रणाम ऋतुराज बसंत के आगमन के साथ ही होली की तैयारियां शुरू हो जाती हैं।बसंत पंचमी के दिन ही गाँव के माली द्वारा होली का ढाह गाड़ दिया जाता है।जो भक्त प्रहलाद के प्रतीक स्वरूप गाड़ा जाता है।लोकगीत --"गड़िगा बसंता का ढ़ाहु बिना होली खेले न जाबै।"काफी प्रचलित लोकगीत है।
होलीगीत और लोकगीत "फाग"से बसंत पंचमी के बाद दसों दिशाएं गुंजायमान होने लगती हैं।प्रकृति नव पुष्पों और नई कोपलों नव पत्तों से धरा का नया श्रंगार करती है।पेंड़़-पौधे नये वस्त्र धारण करते हैं।         कभी होली गीत "फाग"बसंत पंचमी के बाद से हर गाँव गली मोहल्ला में फाग के आयोजन हुआ करते थे।घर-घर होली के बल्ले गोबर से उपलों की शक्ल में बनाए जाते थे।महीनों पहले से कचरी-पापड़ बनना शुरू हो जाते थे।फाग मण्डलियां शाम होते ही गायन प्रस्तुत करती थी।
 हर्सोल्लास का त्योहार  बड़े हर्षोल्लास से उमंग से लोग होली के हुड़दंग में शामिल होते थे।आपसी बैर भाव मिटाकर होली मिलते थे।पर आज मंहगाई तथा आप…

Global threat - Terrorism China's cooperation i वैश्विक खतरा - आतंकवाद चीन का प्रश्रय

helpsir.blogspot.com
वैश्विक खतरा आतंकवाद को चीन का प्रश्रय
आदरणीय सम्पादक जी
                             सादर प्रणाम


      भारत के दो दुश्मन चीन और पाकिस्तान भारत की छाती पर आखिर कब तक मूंग दलते रहेंगे।भारत नें संयुक्त राष्ट्र संघ से दो बार आतंकी मसूद अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करवाने के लिए प्रयास किए।लेकिन चीन की अड़ंगेबाजी के कारण चीन का प्रश्रयदोनों बार मुँह की खानी पड़ी।
      किन्तु जब इस बार भारत के अविचल प्रयासों से फ्रांस, अमेरिका, इंंग्लैण्ड के संयुक्त प्रयास किया,तो उन्हें भी चीन की ही अड़ंगेबाजी के कारण मुँह की खानी पड़ी है।
       आखिर चीन क्यों बार-बार आतंकियों को बचाता है। ऐसा करके वहविश्व पटलपर क्या संदेश देना चाहता है।

विश्व बिरादरी पाकिस्तान को साथ देने के लिए चीन पर कूटनीतिक दबाव बनाने में क्यों विफल हो जाता है?इसका सीधा और सटीक जवाब यही हो सकता है कि वह ( चीन)परोक्ष रूप से आतंकवाद का पोषण कर रहा है।
      यही कारण है कि अमेरिका, इंंग्लैण्ड, फ्रांस जैसे शक्तिशाली देश अपने आतंकवाद के उन्मूलन के प्रयासों मे विफल हो जाते हैं। वास्तविकता के धरातल पर यह की चीन की…

U.P. पुलिस ,जब रक्षक से बनी भक्षक -

helpsir.blogspot.com
 U.P. पुलिस ,जब रक्षक से बनी भक्षक     आदरणीय सम्पादक जी
                         सादर प्रणाम

        अंग्रेजी राज्य से ही रक्षक यानि पुलिस बल आतंक का पर्याय माने जाते रहे हैं।महात्मा गांधी जी भी इनके खौफ से नारा लगाया करते थे।----"पुलिस हमारी भाई है।इनसे नहीं लड़ाई है।"केवल चौकीदार के आने से ही गाँव में दरवाजे बन्द हो जाया करते थे।ऐसा पुलिसिया आतंक अंग्रेजी राज्य में व्याप्त था।

        राज्य बदला देश आजाद हुआ लेकिन पुलिस का रोब-दाब आतंक उसी तरह कायम रहा।पुलिस की थर्ड डिग्री को कौन नहीं जानता है।मानवाधिकार आयोग के आने के बाद कुछ-कुछ बदलाव अवश्य हुआ है।पुलिस सच को झूठ और झूठ को सच बनाने में माहिर समझी जाती है

"ई वर्दी पहिने पुलिस केरि,
                ई सांप बनावैं लत्ता से ,
  मनमाना शहद निकारि लिऐं
                ई बर्रइन के छत्ता से।"         अभी तक केवल पैसा लेकर सच को झूठ और झूठ को सच बनाने में ही माहिर समझे जाते थे।पर अब लखनऊ के विवेक तिवारी हत्याकांड की आंच ठण्डी भी नहीं हो पाई थी कि गोशाईगंज लखनऊ पुलिस द्वारा डकैती डालने का प्रकरण समाचा…