Skip to main content

Posts

करतारपुर कारीडोर पर पाकिस्तान की पैंतरेबाजी

helpsir.blogspot.com

आदरणीय सम्पादक जी                                 सादर प्रणाम        लगभग 550 वर्ष पूर्व अविभाजित भारत के गुरुद्वारा ननकाना साहिब में सिखों के प्रथम गुरू नानकदेव जी का जन्म हुआ था।तत्कालीन समाज में फैली कुरीतियों को दूर करने के लिए नानकदेव जी नें समाज सुधार का कार्य किया था।उनकी शिक्षा आज भी प्रासंगिक हैं।            आपका जन्म स्थल सिखों के लिए सबसे बड़े तीर्थस्थल के रूप में विख्यात है।सरकार ने करतारपुर से ननकाना साहिब तक एक कारीडोर का निर्माण किया है।पाकिस्तान और भारत सरकार अपने-अपने हिस्से की जमीन पर सड़क निर्माण भी करवा लिया है।अब केवल यात्रा ही शुरू होना बाकी है।             पाकिस्तान अपने चिरपरिचित अन्दाज में रोड़े अटकाने का काम जारी रखे हुए हैं।इमरान सरकार कोई भी वैध पहचान पत्र होने की बात कह रही है।जबकि पाक सेना पासपोर्ट होने को जरूरी बता रही है।सिखों की धार्मिक भावना और आस्था पर आघात किया जा रहा है।20 डालर का आस्था शुल्क भी पाकिस्तान वसूलना चाहता है।जो सिखों की धार्मिक और आस्था पर कुठाराघात है।             पाकिस्तान हमेशा की तरह इस बार भी अपनी पैतरेबाजी से बाज नही…
Recent posts

खतरनाक होती हवा

helpsir.blogspot.com

आदरणीय सम्पादक जी                                सादर प्रणाम         हवा जहरीली होती जा रही है।औसत आयु घटती ही जा रही है।सांस लेना दूभर होता जा रहा है।दमा,एलर्जी, सांस,खांसी रोग बढ़ते ही जा रहे हैं।अभी तक केवल दिल्ली की ही हवा जहरीली थी। लेकिन अब तो लखनऊ, हापुड़,बनारस,गाजियाबाद भी जहरीली हवा यानि वायु प्रदूषण की चपेट में है।         कल कारखानों की जहर उगलती चिमनियों, ईंट भट्ठों की जहर उगलती चिमनियों तथा डीजल/पेट्रोल के जहर उगलते साइलेंसरों का जहरीला धुँआ और पर्यावरण को संतुलित कारक पेंड़ों का कटना ही अधिक जिम्मेदार है।           हरियाणा, पंजाब, उ०प्र०के किसानों द्वारा पराली जलाना भी जिम्मेदार है।धुँआ भी देशभक्त होता जा रहा है।पंजाब/हरियाणा का पराली जलाने का धुआंं पाकिस्तान जाने के बजाय दिल्ली में ही डेरा डाल देता है।धुंआ भी पाकिस्तान से घृणा करता है।किसानों को पराली जलाने के अपराध में सजा/जुर्माना द्वारा दंडित भी किया जा चुका है।सम/विषम योजना भी दिल्ली के प्रदूषण रोंकने में सहायक नहीं सिद्ध हो रहा है।         वह दिन दूर नहीं जब भावी पीढ़ी को सांस लेने के लिए आक्सीजन सिलिंड…

प्राइवेट हाथों में पलता फूलता विद्युत उद्योग

helpsir.blogspot.com

आदरणीय सम्पादक जी                               सादर प्रणाम         विद्युत, चपला, चंचला यथा नाम तथा गुण।कब आए,कब जाए कुछ भी पता नहीं।केन्द्र सरकार ने हर घर बिजली के लिए सौभाग्य योजना चलाई जो निश्चय ही स्वागतयोग्य कदम है।अंधेरे को मिटाकर उजाला फैलाना ही सरकार का एकमात्र उद्देश्य है।           केरोसिन(मिट्टी का तेल)का सस्ते गल्ले की दूकानों से मिलना बंद हो गया है।एक तरफ सरकार अंधेरा मिटाने को कृत संकल्प है।दूसरी तरफ प्राइवेट हाथों में फलता-फूलता विद्युत उद्योग सरकार के उद्देश्यों पर पलीता लगा रहा है।           सरकार अगर10घरों में उजाला फैलाने का प्रयास कर रही है तो दूसरी तरफ प्राईवेट फर्मों वाले बकाया बिल के नाम पर 12 घरों की बिजली का कनेक्शन काट रहे हैं।कुल मिलाकर सरकारी बिल यदि 2-3 हजार का आता था तो अब प्राइवेट संस्था द्वारा वहीं बिल 30-40 हजार का आता है।           जनता बिजली के नाम पर लुट रही है।केरोसिन भी कहीं नहीं मिल रहा है।गरीब का झोपड़ा आज भी अंधेरे में डूबा हुआ है।सरकार इनके घर में भी उजाला लाने का प्रयास करें।बिल के नाम पर प्राइवेट फर्मों के मकड़जाल से मुक्त करा…

प्रकाशपर्व दीपावली के दिव्य मिट्टी के दिये

helpsir.blogspot.com

आदरणीय सम्पादक जी
                               सादर प्रणाम        दीप पर्व दीपावली सिरीज का पहला पर्व करवा चौथ आज दि०17-10-2019 को पड़ रहा है।इस दिन हिन्दू सुहागिनें अपने पति की दीर्घायु के लिए निर्जला व्रत करती हैं।तथा चन्द्रोदय होते ही चन्द्र देवता की पूजा आराधना के पश्चात पारायण करती हैं।पति की लम्बी उम्र की कामना करती हैं।
        भारतीय मतानुसार यहीं से शीत ऋतु का आगमन भी माना जाता है।करवा चौथ और दीपावली का गहरा सम्बंध है।एक उक्ति है---**करवा हैं करवाली वहिके बरहें रोज दिवाली।**         दीपावली में शास्त्रों की दृष्टि से मिट्टी के दियों का ही महत्व है।लक्ष्मी पूजन मिट्टी के दिये जलाने से ही शुभ है।तेल जलने से वातावरण की शुद्धि होती है।विधान तो देशी घी जलाने का है।आज भी प्रतीक स्वरूप हर घर में पाँच देशी घी के दिये जलाए जाते हैं।       मिट्टी के दिये खरीदने से किसी गरीब कुम्हार के घर में भी दीप जलने का आप प्रबंध करेंगे।वह भी हंसी-खुशी दीपावली मनाएगा।बिजली के बल्ब से रोशनी तो जरूर होगी लेकिन वातावरण शुद्धि से वंचित रहना पड़ेगा।प्रकाश ज्ञान का पर्याय माना गया ह…

पाक्सो कोर्ट का शीघ्र निर्णय : एक स्वागतयोग्य कदम

helpsir.blogspot.com

आदरणीय सम्पादक जी
                             सादर प्रणाम        बाल यौन अपराध रोकने के उद्देश्य से सरकार पाक्सो ऐक्ट लेकर आई है।यह कानून प्रभावी होने के साथ ही कठ़ोर भी है।माननीय विद्वान न्यायाधीश भी अपेक्षित सहयोग कर रहे हैं।शीघ्र न्याय देकर एक मिसाल कायम कर रहे हैं।पहले 36 दिन में फैसला सुनाकर एक इतिहास कायम किया।फिर कासगंज कोर्ट ने 23 दिन में फैसला सुनाया।
        अब रायबरेली पाक्सो कोर्ट ने तो कमाल ही कर दिया।मात्र दस दिन में ही फैसला सुनाकर इतिहास कायम कर दिया है।इसके लिए पाक्सो कोर्ट के माननीय विद्वान न्यायाधीश और सरकारी वकील तथा सम्बंधित थाना के थानाध्यक्ष और विवेचक भी अवश्य ही बधाई के पात्र हैं।पीड़िता को तुरंत न्याय से उसके घावों पर मरहम लगाने का काम किया है।पाक्सो कोर्ट के अलावा भी अन्य न्यायाधीश भी यदि इसी तरह की मिसाल कायम करें तो न्यायालय में बढ़ते फाइलों के बोझ को भी कम किया जा सकता है।तथा त्वरित न्याय के द्वारा पीड़ित पक्ष के घावों पर मरहम भी लगाया जा सकता है।प्रमोद कुमार दीक्षित, सेहगों, रायबरेली।

पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर अत्याचार और मानवाधिकारों का हनन

helpsir.blogspot.com
आदरणीय सम्पादक जी
                          सादर प्रणाम        पाकिस्तान आतंकवादियों की सुरक्षित पनाहगाह रही है।इतिहास गवाह है कि पूरी दुनिया में कहीं भी होनेवाली आतंकी घटना में आपको एक अदद पाकिस्तानी अवश्य शामिल मिलेगा।पाकिस्तान में आतंकवाद का प्रशिक्षण, भरणपोषण, वित्तीय मदद आदि सारी सहूलियतें प्राप्त हैं।सरकारी नीति के तहत आतंकवाद का भरण पोषण होता है।यदि पाकिस्तान को आतंकवाद की भट्टी कहा जाय तो अतिशयोक्ति नहीं होगी।         पूरी दुनिया में सभी अन्तर्राष्ट्रीय मंचों पर मौका मिलने पर पाकिस्तान भारत को बदनाम करने की नीयत से कश्मीर में मानवाधिकार हनन के आरोप लगाने से कभी बाज नहीं आता है।कश्मीर की आजादी का भी राग अलापता रहा है।कल दि024-10-2019 को पी.ओ.के.में आजादी का प्रदर्शन कर रहे लोगों पर बर्बर लाठीचार्ज करके पाकिस्तान ने आजादी का दावा करने वाले लोगों पर भीषण मानवाधिकारों का हनन किया है।पाकिस्तान में हिन्दू, सिख,ईसाई अल्पसंख्यकों को मानवाधिकारों की भारी कीमत चुकानी पड़ रही है।ईशनिंदा कानून के तहत बेवजह फांसी दी जाती रही है।जबरन धर्म परिवर्तन के द्वारा आजादी के समय …

** वीर बालाओं की उपेक्षा **

helpsir.blogspot.comआदरणीय सम्पादक जी
                             सादर प्रणाम             योगी सरकार ने छात्राओं से छेड़छाड़ एन्टी रोमियो दल का गठन किया है।सरकार इस समस्या के प्रति गम्भीर है।योगीजी विशेष रूप से इस समस्या से आहत हैं।लेकिन इस तरह की घटनाओं में विशेष कमी नहीं आई है।योगीजी सख्त हैं पुलिस सख्त है।लेकिन इस देश की *प उवा *लगाने की घटिया स्तर की राजनीति के तहत राजनेता/छुटभैय्ये नेता बाज नहीं आते हैं।थाने में बेवजह दबाव बनाने की घटिया स्तर की राजनीति करते हैं।जो निन्दनीय है।          अपने सतीत्व, स्त्रीत्व की रक्षा करने वाली वीर बालाओं /छात्राओं को सरकार/समाज को इन्हें पुरस्कृत और सम्मानित करना चाहिए।अपने सतीत्व, स्त्रीत्व की रक्षा करने के लिए मनचलों,शोहदों,गुण्डों, मवालियों से अपनी जान पर खेलकर लोहा लेने तथा रिपोर्ट दर्ज करवाकर गुण्डों को उनके असली घर जेल पहुँचाने वाली को वीर बाला कहा जाय तो अतिशयोक्ति नहीं होगी।        परन्तु हमारा समाज ऐसी वीर बालाओं को पुरस्कृत और सम्मानित करने के बजाय तिरस्कृत और अपमानित करता है।सभी अपनी लड़कियों को सीता,सावित्री, लक्ष्मी बाई बनाना चाहता ह…