Skip to main content

Posts

Holi Holashtak and eighty Holi [ होली होलाष्टक और आठौ की होली

helpsir.blogspot.com होली होलाष्टक आठौ की होलीHoli Holashtak  eighty Holi [ Holi Holashtak and eighty Holi  आदरणीय सम्पादक जी 
                               सादर प्रणाम        कल दि० 20-03-2019 को पावन होलिका दहन का पर्व है।कल ही भगवान नृसिंह का जन्मदिन भी है।इसके अलावा कल हिरण्यकश्यप की बहन होलिका का मरण दिन भी है और कल ही भक्त प्रहलाद का रक्षा दिन भी है।
पौराणिक कथाओं के अनुसार कल के दिन ही उक्त तीनों दिवस है।भक्त प्रहलाद के बच जानें की खुशी में कल के बाद रंगारंग दिवस मनाया जाता है।इसे धूरि उड़ना भी कहते हैं।
       "होली माता बेटवा देहैं नाम धरब गिरधारी हो।"इसी फाग गीत यानि धंवारी [धमाल ]के साथ फाग मण्डल घर-घर फाग गीत,धंवारी और कबीर गाते हुए होली के हुरियारे गीत संगीत के साथ गली-गली गांव चौबारों में घूम-घूमकर होली की खुशियाँ गुझिया, पापड़ का आनन्द लेते हुए रंगों से सराबोर होकर मनाया जाता है।
         भांग का नशा इस आयोजन को और मनमोहक बना देता है।यह हिन्दुओं का प्रमुख त्यौहार है।इस बार लोकसभा चुनावों के कारण चुनावी तड़का भी देखने को मिलेगा।इस बार लगभग हर दल द्वारा होली मिलन पण्डा…
Recent posts

Hinduism and Teej festival ] हिन्दू धर्म और तीज त्योहार

helpsir.blogspot.in हिन्दू धर्म और तीज त्योहार
Hinduism and Teej festival
आदरणीय सम्पादक जी

                            सादर प्रणाम
हिन्दू  धर्म विश्व का एक विशाल धर्म है।यह धर्म विश्व बन्धुत्व, वसुधैव कुटुम्बकम की धारणा वाला श्रेष्ठ धर्म है।यह धर्म सर्वेभवन्तु सुखिनःसर्वे सन्तु निरामयाः।के सिद्धांत को मानने वाला धर्म है।इस धर्म में 33 कोटि देवी,देवताओं को मानने पूजापाठ का विधान है।इसके अतिरिक्त सूर्य,नदी,पीपल,बरगद सरीखे देव वृक्ष की पूजा का भी विधान है।  हिन्दू धर्म में रोज ही तीज त्यौहारों को मनाने तथा विभिन्न प्रकार के पूजा पाठ का भी विधान है।तरह-तरह के व्रत,तप,जप का भी विधान है।हिन्दू धर्म के सभी तीज त्यौहारों में गूढ़ वैज्ञानिकता छिपी हुई है।विज्ञान की कसौटी पर इस धर्म की सभी रीति रिवाज वेज्ञानिक कसौटी पर खरी उतरती है।इस धर्म के सभी नियम और उप नियमों में स्वास्थ्य के लिहाज से उत्तम जानकारी समाहित है।

     प्रमुख पर्वों में होली,दीपावली का विशेष महत्व है।देश के सभी प्रदेशों गांवों,शहरों कस्बों में यह त्यौहार प्रमुखता से मनाया जाता है।चारों ओर होली में होलिका दहन किया जाता है।जिस कारण…

Holi now hi tech ho - li [ होली अब हाई टेक हो -- ली

helpsir.blogspot.in
Holi now hi tech ho - li  होली अब हाई टेक   हो -- ली   आदरणीय सम्पादक जी                                                             सादर प्रणाम               कभी होली की तैयारियां महीनों पहले से होना शुरू हो जाती थी।बसंत पंचमी के साथ ही होली की तैयारियां होती थी।होली के बल्ले जो गोबर से बनाए जाते थे।इन बल्लों को जो कि उपलों की शक्ल के होते हैं।वर्ष भर चूल्हों में जलाए जाते थे।होली की आग लोग साल भर तक घरों में बनाए रखते थे।बिटिया-बहनें ससुराल से मायके आ जाती थी।

        महिलाएं होलीगीत,और पुरुषों द्वारा फाग का आयोजन होता था।अब होली गीत, फिल्मी गीतों की तर्ज पर गाए जा रहे हैं।गाँव-देहातों में फाग मण्डल अभी जीवित और सक्रिय हैं।
        शहरों में डी.जे.ने इनकी जगह ले ली है।शोरगुल, और भोंडे संगीत ने ध्वनि प्रदूषण फैला रखा है।लोग प्रेम और रंगों के त्यौहार को बदतमीजियों और दारू,शराब पीने का ही त्यौहार बना रखा है।यह केवल और केवल हुड़दंग का त्यौहार बना कर रख दिया है। 

पिचकारी और बाल्टी भरे रंग की जगह केवल वाट्सएप ने ले ली है।फेसबुक, वाट्सएप पर रंगीन चित्र ही भेज रहे हैं।हाथों …

Overfute fall in Mumbai ] मुम्बई मेiफुटओवर का गिरना

helpsir.blogspot.in
मुम्बई मे फुटओवर का गिरना  Overfute fall in Mumbai 
आदरणीय सम्पादक जी                              सादर प्रणाम


         ओवरब्रिज,पुलों आदि सरकारी निर्माणों के गिरनें और लोगों के मरने का सिलसिला लगातार जारी है।गरीब लोगों की जान सस्ती है।कमीशन बाजी के खेल में इन्जीनियर, आफीसर मालामाल हो जाते हैं।
          गरीबों,निर्दोषों की जान की कीमत कोई मायने नहीं रखती।जानें तो जाती ही रहती हैं।सस्पेंड और बहाली का खेल तो चलता ही रहता है।यदि ओवरब्रिज, पुल,सरकारी स्कूलों, अस्पताल, कार्यालय को बनने के पहले से ही सरकार कड़ी नजर रखे।

         अगर जुम्मेवार अधिकारी समय-समय पर मानकस्तर और गुणवत्तापूर्ण निर्माण पर कड़ी नजर रखे,तो घटिया निर्माण और ढ़हनें के कारण जाने वाली जानों और सरकार द्वारा दिए जानें वाले मुआवजे की रकम और बदनामी से बचा जा सकता है।

        केवल कमीशन बाजी के खेल पर विराम लगाए जाने की जरूरत है।

प्रमोद कुमार दीक्षित, सेहगों, रायबरेली

Global threat - Terrorism China's cooperation i वैश्विक खतरा - आतंकवाद चीन का प्रश्रय

helpsir.blogspot.com
वैश्विक खतरा आतंकवाद को चीन का प्रश्रय
आदरणीय सम्पादक जी
                             सादर प्रणाम


      भारत के दो दुश्मन चीन और पाकिस्तान भारत की छाती पर आखिर कब तक मूंग दलते रहेंगे।भारत नें संयुक्त राष्ट्र संघ से दो बार आतंकी मसूद अजहर को अंतर्राष्ट्रीय आतंकवादी घोषित करवाने के लिए प्रयास किए।लेकिन चीन की अड़ंगेबाजी के कारण चीन का प्रश्रयदोनों बार मुँह की खानी पड़ी।
      किन्तु जब इस बार भारत के अविचल प्रयासों से फ्रांस, अमेरिका, इंंग्लैण्ड के संयुक्त प्रयास किया,तो उन्हें भी चीन की ही अड़ंगेबाजी के कारण मुँह की खानी पड़ी है।
       आखिर चीन क्यों बार-बार आतंकियों को बचाता है। ऐसा करके वहविश्व पटलपर क्या संदेश देना चाहता है।

विश्व बिरादरी पाकिस्तान को साथ देने के लिए चीन पर कूटनीतिक दबाव बनाने में क्यों विफल हो जाता है?इसका सीधा और सटीक जवाब यही हो सकता है कि वह ( चीन)परोक्ष रूप से आतंकवाद का पोषण कर रहा है।
      यही कारण है कि अमेरिका, इंंग्लैण्ड, फ्रांस जैसे शक्तिशाली देश अपने आतंकवाद के उन्मूलन के प्रयासों मे विफल हो जाते हैं। वास्तविकता के धरातल पर यह की चीन की…

RRB भर्ती मे माँगा गया EW S प्रमाण पत्र

helpsir.blogspot.in
आदरणीय सम्पादक जी
                          सादर प्रणाम आर.आर.बी.ने लगभग एक लाख तीस हजार पदों पर भर्तियां निकाल कर बेरोजगारी कम करनें की दिशा में स्वागत योग्य कदम उठाया है।सरकार द्वारा जल्द ही सामान्य श्रेणी के आर्थिक रूप से पिछड़े अभ्यर्थियों को 10% आरक्षण देने का निश्चय किया है।जिसके लिए E.W.S. प्रमाण पत्र की व्यवस्था दी है। 
      जल्दबाजी में बिना किसी ठोस तैयारी के योजना धरातल पर उतार दी है।तहसील कर्मी बिना किसी प्रोफार्मा के E.W.S.प्रमाण पत्र कैसे जारी करें।अतःआय प्रमाण पत्र ही जारी कर रहे हैं।       इस सम्बंध मे सरकार ने जल्दबाजी में 10% आरक्षण तो दे दिया , अब आवश्यकता है उक्त प्रमाण पत्र देने सम्बन्धित E.W.S. प्रमाण पत्र हेतु एक निश्चित प्रोफार्मा भी जारी करने की।  

       जब तक निश्चित प्रोफार्मा नहीं जारी किया जाता आय प्रमाण पत्र को ही मान्यता देनी चाहिए।
प्रमोद कुमार दीक्षित, सेहगों, रायबरेली।

U.P. पुलिस ,जब रक्षक से बनी भक्षक -

helpsir.blogspot.com
 U.P. पुलिस ,जब रक्षक से बनी भक्षक     आदरणीय सम्पादक जी
                         सादर प्रणाम

        अंग्रेजी राज्य से ही रक्षक यानि पुलिस बल आतंक का पर्याय माने जाते रहे हैं।महात्मा गांधी जी भी इनके खौफ से नारा लगाया करते थे।----"पुलिस हमारी भाई है।इनसे नहीं लड़ाई है।"केवल चौकीदार के आने से ही गाँव में दरवाजे बन्द हो जाया करते थे।ऐसा पुलिसिया आतंक अंग्रेजी राज्य में व्याप्त था।

        राज्य बदला देश आजाद हुआ लेकिन पुलिस का रोब-दाब आतंक उसी तरह कायम रहा।पुलिस की थर्ड डिग्री को कौन नहीं जानता है।मानवाधिकार आयोग के आने के बाद कुछ-कुछ बदलाव अवश्य हुआ है।पुलिस सच को झूठ और झूठ को सच बनाने में माहिर समझी जाती है

"ई वर्दी पहिने पुलिस केरि,
                ई सांप बनावैं लत्ता से ,
  मनमाना शहद निकारि लिऐं
                ई बर्रइन के छत्ता से।"         अभी तक केवल पैसा लेकर सच को झूठ और झूठ को सच बनाने में ही माहिर समझे जाते थे।पर अब लखनऊ के विवेक तिवारी हत्याकांड की आंच ठण्डी भी नहीं हो पाई थी कि गोशाईगंज लखनऊ पुलिस द्वारा डकैती डालने का प्रकरण समाचा…