Skip to main content

दांतो की पीड़ा की परेशानियां और उनका इलाज


web -helpsir,blogspot,com

इलाज ;  दांतो की पीड़ा की परेशानियां और उनका इलाज

हमारे शरीर में दांतों का स्थान अन्य अंगों की तरह बहुत महत्वपूर्ण तो नहीं है फिर भी यह शरीर का अभिन्न अंग है छोटे बच्चे युवा किशोर जवान और वृद्ध सभी इन परेशानियों से कभी न कभी परेशान होते ही हैं हम सभी जानते हैं कि दांतों का मुख्य कार्य मुंह में ले जाए गए भोजन को पीसना और कुचलकर लुग्दी बनाना होता है | दांतो की कोई भी परेशानी होने पर जब दांत भोजन को पीसकर लुगदी नहीं बना पाते हैं , तब भोजन खंडित रूप में ही आमाशय में प्रवेश कर जाता है | जिससे भोजन का बहुत बड़ा भाग पच नही पाता है | भोजन का ठीक-ढंग से पाचन न हो पाने पर शरीर में तरह तरह की परेशानियां तथा बीमारियां होने लगती है | इसलिए दातों के रखरखाव की बहुत ज्यादा आवश्यकता है | इसीलिए दांतों की देखभाल आदमी की अनिवार्य आवष्यकताओं के अंतर्गत आती है

 दांत क्यों गिरते हैं

दंत रोग विशेषज्ञों के अनुसार 60 वर्ष की उम्र तक पहुंचते-पहुंचते लगभग 80% महिलाओं के तथा लगभग 70% पुरुषों के दांत गिरने शुरू हो जाते हैं | इसके अलावा अगर आप पाश्चात्य देशों के बजाय , पूर्व दिशा में निवास करते हैं , तब दांतो के गिरने की आशंका दोगुनी हो जाती है |  इसका सही कारण क्या है , यह जानने के प्रयास में औषधि विज्ञानी लगे हुए हैं , फिर भी अभी तक इसका पूर्णरूपेण सही कारण नहीं खोज पाए हैं | एक संभावना यह व्यक्त की जाती है , कि जब पानी में फ्लोरीन [ flourine ] नामक तत्व की कमी हो जाती है , तब दांतों का गिरना प्रारंभ हो जाता है | फ्लोरीन दांतों को नष्ट होने से बचाती है | यह बात अन्य रसायनों पर भी निर्भर करती है | दांतो के गिरने का मुख्य कारण कुछ प्रकार के भोजन हैं | जैसे फ़ास्ट फ़ूड और जंक फ़ूड आदि | प्रयोगों और निरीक्षणों में ऐसा पाया गया है कि , मधुर पेयों का सेवन करने से भी दांत जल्दी गिरते हैं |

 दांतों में कीड़ा लगना

दंत चिकित्सकों का मानना है कि , जब दांत की जड में कीड़ा लग जाता है तब व्यक्ति को बहुत ही असहनीय कष्ट होता है | एकांत अथवा रात होने पर दांतो की इस पीड़ा का एहसास बहुत ज्यादा होता है | भिन्न भिन्न प्रकार की एलोपैथिक दवाओं से दंत पीड़ा कुछ समय के लिए तो शांत हो सकती है , परंतु रोगी को पूरी तरह से आराम नहीं मिल पाता है | जिसके कारण उसे यह दर्द पुनः पुनः होता रहता है | कहने का अर्थ यह है कि रोग का समूल नाश नहीं हो पाता है | दांत का कीड़ा निकालने के लिए आजतक एलोपैथिक पद्धति में कोई भी पेटेंट इलाज नहीं बना है | परंतु हम आपको एक ऐसा इलाज बताएंगे , जिससे आपके दांतों के कीड़े दूर हो जाएंगे |


दांत से कीड़ा निकालने की औषधि

आयुर्वेदिक औषधियों के विक्रेता [ पंसारियों ] के यहां भिन्न भिन्न प्रकार की आयुर्वेदिक औषधियां मिलती हैं |  इन में से एक औषधि का नाम वायविडंग है | इसे गुजराती में वावडींग , मराठी में वावडिग तथा अंग्रेजी मे [ Babreng कहते हैं | यदि आप कीड़ों की चिकित्सा करना चाहते हैं , तो किसी पंसारी के यहां से इस औषधि के लगभग लगभग 10 ग्राम बीज ले आएं | अब इन बीजों को कूटकर जो चूर्ण बना लें | अब इस चूर्ण से वायविडंग के बीज के बराबर बराबर मात्रा लेकर मलमल के कपड़े की छोटी-छोटी पोटलिया बनाकर लें | अब इन पोटलियों को किसी छोटे बर्तन में लगभग 20 ग्राम पानी में डालकर पकाना शुरू करें | जब बर्तन का सारा पानी जल जाए ,  अर्थात सारा पानी पोटलियों में शोषित हो जाए तब , एक गरम गरम पोटली दर्द करने वाले दांत के नीचे दबा कर सो रहें | प्रातः काल पोटली कीड़ों से लिपटी हुई मिलेगी | अब इस पोटली को निकाल कर फेंक दे | इसी प्रकार दूसरी रात्रि को भी यह प्रयोग करें , दिन के प्रयोग से आप की दाढ में लगे हुए सारे कीड़े बाहर आ जाएंगे , और आपको दांत के दाढ दर्द से पूर्णरूपेण राहत मिल जाएगी |

साधारण दांत दर्द की आश्चर्यजनक औषधि

चाहे दांत की जड़ में कीड़ा लग गया हो , या दांत में साधारण सा दर्द हो तब भी आदमी को असहनीय दर्द होता है | कभी-कभी कीड़े नहीं लगे होते हैं , फिर भी दांत दर्द करने लगते हैं | इसके लिए आज हम आपको एक ऐसी ओषधि बताने जा रहे है जो आपको कीड़े लगे दांत और साधारण दर्द दोनों में ही रामबाण की तरह लाभ करेगी | ऐसी अवस्था में आपको अपने घर में ही इलाज की औषधियां मिल जाएंगी | दांत दर्द के लिए आप फिटकरी  तथा लौंग बराबर  बराबर मात्रा में लेकर किसी खरल में डालकर उनका बहुत ही महीन महीनचूर्ण बना लें |  अब इसकी थोड़ी सी मात्रा लेकर दांत पर 5 से 7 मिनट तक मलें | दोबारा दर्द हो जाए तो यह प्रक्रिया एक बार पुनः दोहरा दे | केवल दो बार के प्रयोग से ही आपके दांतों का दर्द रफूचक्कर हो जाएगा , और आप को दांत दर्द तथा दांत के कीड़ों , दोनों ही परेशानियों से निजात मिल जाएगी |

जय आयुर्वेद


Comments

Popular posts from this blog

Holi colors with hubbub ;- होली के रंग, हुड़दंग के संग

helpsir.blogspot.com. Holi colors with hubbub ;- होली के रंग, हुड़दंग के संग आदरणीय सम्पादक जी
                           सादर प्रणाम ऋतुराज बसंत के आगमन के साथ ही होली की तैयारियां शुरू हो जाती हैं।बसंत पंचमी के दिन ही गाँव के माली द्वारा होली का ढाह गाड़ दिया जाता है।जो भक्त प्रहलाद के प्रतीक स्वरूप गाड़ा जाता है।लोकगीत --"गड़िगा बसंता का ढ़ाहु बिना होली खेले न जाबै।"काफी प्रचलित लोकगीत है।
होलीगीत और लोकगीत "फाग"से बसंत पंचमी के बाद दसों दिशाएं गुंजायमान होने लगती हैं।प्रकृति नव पुष्पों और नई कोपलों नव पत्तों से धरा का नया श्रंगार करती है।पेंड़़-पौधे नये वस्त्र धारण करते हैं।         कभी होली गीत "फाग"बसंत पंचमी के बाद से हर गाँव गली मोहल्ला में फाग के आयोजन हुआ करते थे।घर-घर होली के बल्ले गोबर से उपलों की शक्ल में बनाए जाते थे।महीनों पहले से कचरी-पापड़ बनना शुरू हो जाते थे।फाग मण्डलियां शाम होते ही गायन प्रस्तुत करती थी।
 हर्सोल्लास का त्योहार  बड़े हर्षोल्लास से उमंग से लोग होली के हुड़दंग में शामिल होते थे।आपसी बैर भाव मिटाकर होली मिलते थे।पर आज मंहगाई तथा आप…

आजादी की अमर नेत्री नीरा नागिन ....विनोद पटेल

आजादी की इस अमर नेत्री को अंग्रेजी शासक ने इतनी यातनाएं दी गईं कि जानकारी होने पर आपका कलेजा मुँह को आजायेगा और नेहरू ही नही नेहरु परिवार कहता है कि चरखा से आजादी मिली?
         नीरा आर्य की कहानी। जेल में जब मेरे स्तन काटे गए ! स्वाधीनता संग्राम की मार्मिक गाथा। एक बार अवश्य पढ़े, नीरा आर्य (१९०२ - १९९८) की संघर्ष पूर्ण जीवनी ।
        नीरा आर्य का विवाह ब्रिटिश भारत में भारतीय  सीआईडी इंस्पेक्टर श्रीकांत जयरंजन दास के साथ हुआ था | नीरा के मन मे देश की आजादी के प्रति उत्कट भावना थी । नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जान बचाने के लिए इन्होंने अंग्रेजी सेना में तैनात अपने ही अफसर पति श्रीकांत जयरंजन दास की हत्या कर दी थी |      नीरा ने अपनी एक आत्मकथा भी लिखी है | इस आत्म कथा का एक ह्रदयद्रावक अंश प्रस्तुत है -👇🏼      5 मार्च 1902 को तत्कालीन संयुक्त प्रांत के खेकड़ा नगर में एक प्रतिष्ठित व्यापारी सेठ छज्जूमल के घर जन्मी नीरा आर्य आजाद हिन्द फौज में रानी झांसी रेजिमेंट की सक्रिय सिपाही थीं, जिन पर अंग्रेजी सरकार ने , इनपर भी गुप्तचर होने का झूठा आरोप लगाया था।       बीरबाला नीरा ​को "…

दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश मे चुनाव एक पर्व ;

helpsir.blogspot.com दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश मेचुनाव एक पर्व  आदरणीय सम्पादक जी 
                           सादर प्रणाम         दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत में चुनाव पर्व की घोषणा कल दि०10-03-2019 को चुनाव पर्व की घोषणा के साथ ही आचार संहिता लागू हो चुकी है।चुनावी बिगुल बज चुका है।राजनीतिक दलएन.डी.ए.तथा यू.पी.ए. रूपी पाण्डव और कौरव सेना में शामिल होकर चुनावी महाभारत फतेह करनें के इरादे से 2019 लोकसभा रूपी कुरूक्षेत्र में कूद पड़े हैं। 29 मई को मतगणना में सभी दलों के प्रदर्शन का परिणाम घोषित हो जाएगा।         अगर वास्तविक चुनावीपरिवेशपर समीक्षात्मक नजर ड़ाली जाय,तो राजनीति मे कोई किसी का न तो स्थाई मित्र होता है न ही स्थाई दुश्मन। एक दूसरे के प्रतिद्वंदी  भी स्वार्थ के वशीभूत होकर केवल जीत के लिये किसी भी दल से टिकट पाने की कोशिश मे लग जाते हैं।

       सभी दल पूरे दम-खम के साथ खम ठोंक रहे हैं।लोकतंत्र मंदिर के पुजारी यानि मतदाता पाँच वर्ष में एक बार होनें वाली पूजा में आहुति डालनें को तैयार हैं।भारत में होने वाले लोकसभा चुनाव में सारी दुनिया की निगाहें टिकी रहती हैं…