Skip to main content

पुरातनम् बीज बनाम अद्यतन

helpsir.blogspot.com

आदरणीय सम्पादक जी

                               सादर प्रणाम

        पुराने जमाने में रासायनिक खादों, उर्वरकों, कीटनाशकों के प्रयोग के बिना केवल गोबर की खाद से जो अन्न पैदा किया जाता था उस अन्न की खुश्बू, स्वाद लाजबाब होता था।खेत,खलिहानों, बागों,चरागाहों में चरकर आई गाय,भैंसों के दूध में गजब का स्वाद और प्रचुर मात्रा में औषधीय गुण होते थे।
       तब के देशी घी में भी गजब की सुगंध पाई जाती थी।खरा करने हेतु कड़ाही में गरम करते वक्त देशी घी की मोहक सुगंध फैल जाया करती थी।जिससे पड़ोसियों को भी पता हो जाता था कि अमुक घर में देशी घी बन रहा है।
     आयुर्वेद में अनुपान के रूप में जिस दूध का वर्णन मिलता है वह छुट्टि चरने वाली देशी गाय का दूध ही माना जाता है।खूंटे से बांधकर नांद में चारा,भूसा खिलाने वाली गाय के दूध में उतने औषधीय गुण नहीं होते हैं जितना छुट्टा चरने वाली गाय के दूध में पाए जाते हैं।
      देशी भूने चने में जो खुश्बू, सोंधापन गोबर की खाद से उपजाए चने में होती थी वह उर्वरकों से उत्पादित चनों में नहीं पाई जाती है।औषधीय गुण भी नहीं पाए जाते हैं।
      पुराने जमाने के चावल "बादशाह पसंद"की पसंद के कायल आधुनिक युग के लोग आज भी हैं।वहीं खुश्बू और स्वाद को आज भी लोग दीवानावार बनकर ढ़ूंढ़ रहे हैं।अब बादशाह तो बचे नहीं हैं जैसे धनकुबेर अपनें को नकली बादशाह मानते हैं वैसे ही नकली "बादशाह पसंद"चावल भी खाते हैं।
      पहले भगोना या बटुई में जब बादशाह पसंद चावल पकाया जाता था तो उसकी फैली खुश्बू से ही अड़ोस-पड़ोस के लोग जान जाया करते थे कि अमुक घर में "बादशाह पसंद"चावल पक रहा है।गोबर की खाद से उत्पादित आलू भूनने में जो खुश्बू, स्वाद,सोंधापन मिलता था अब नगण्य है।

        अब शंकर प्रजाति के बीजों और उर्वरकों, कीटनाशकों के उपयोग से उत्पादित सब्जी,फल,फूल,अनाज से लगभग सवा अरब जनसंख्या का पेट तो आसानी से भर जाता है ।तथा हम निर्यात की स्थिति में भी हैं।लेकिन वह स्वाद और खुश्बू, औषधीय गुणों से भरपूर पुरानी खुश्बू, स्वाद,औषधीय गुण हम दीवानावार हो ढ़ूंढ़ते हैं।

        अतःसरकार से निवेदन है कि पुराने बीजों को संरक्षित करने की कृपा करें।

प्रमोद कुमार दीक्षित, सेहगों, रायबरेली।

Comments

Popular posts from this blog

आजादी की अमर नेत्री नीरा नागिन ....विनोद पटेल

आजादी की इस अमर नेत्री को अंग्रेजी शासक ने इतनी यातनाएं दी गईं कि जानकारी होने पर आपका कलेजा मुँह को आजायेगा और नेहरू ही नही नेहरु परिवार कहता है कि चरखा से आजादी मिली?
         नीरा आर्य की कहानी। जेल में जब मेरे स्तन काटे गए ! स्वाधीनता संग्राम की मार्मिक गाथा। एक बार अवश्य पढ़े, नीरा आर्य (१९०२ - १९९८) की संघर्ष पूर्ण जीवनी ।
        नीरा आर्य का विवाह ब्रिटिश भारत में भारतीय  सीआईडी इंस्पेक्टर श्रीकांत जयरंजन दास के साथ हुआ था | नीरा के मन मे देश की आजादी के प्रति उत्कट भावना थी । नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जान बचाने के लिए इन्होंने अंग्रेजी सेना में तैनात अपने ही अफसर पति श्रीकांत जयरंजन दास की हत्या कर दी थी |      नीरा ने अपनी एक आत्मकथा भी लिखी है | इस आत्म कथा का एक ह्रदयद्रावक अंश प्रस्तुत है -👇🏼      5 मार्च 1902 को तत्कालीन संयुक्त प्रांत के खेकड़ा नगर में एक प्रतिष्ठित व्यापारी सेठ छज्जूमल के घर जन्मी नीरा आर्य आजाद हिन्द फौज में रानी झांसी रेजिमेंट की सक्रिय सिपाही थीं, जिन पर अंग्रेजी सरकार ने , इनपर भी गुप्तचर होने का झूठा आरोप लगाया था।       बीरबाला नीरा ​को "…

Holi colors with hubbub ;- होली के रंग, हुड़दंग के संग

helpsir.blogspot.com. Holi colors with hubbub ;- होली के रंग, हुड़दंग के संग आदरणीय सम्पादक जी
                           सादर प्रणाम ऋतुराज बसंत के आगमन के साथ ही होली की तैयारियां शुरू हो जाती हैं।बसंत पंचमी के दिन ही गाँव के माली द्वारा होली का ढाह गाड़ दिया जाता है।जो भक्त प्रहलाद के प्रतीक स्वरूप गाड़ा जाता है।लोकगीत --"गड़िगा बसंता का ढ़ाहु बिना होली खेले न जाबै।"काफी प्रचलित लोकगीत है।
होलीगीत और लोकगीत "फाग"से बसंत पंचमी के बाद दसों दिशाएं गुंजायमान होने लगती हैं।प्रकृति नव पुष्पों और नई कोपलों नव पत्तों से धरा का नया श्रंगार करती है।पेंड़़-पौधे नये वस्त्र धारण करते हैं।         कभी होली गीत "फाग"बसंत पंचमी के बाद से हर गाँव गली मोहल्ला में फाग के आयोजन हुआ करते थे।घर-घर होली के बल्ले गोबर से उपलों की शक्ल में बनाए जाते थे।महीनों पहले से कचरी-पापड़ बनना शुरू हो जाते थे।फाग मण्डलियां शाम होते ही गायन प्रस्तुत करती थी।
 हर्सोल्लास का त्योहार  बड़े हर्षोल्लास से उमंग से लोग होली के हुड़दंग में शामिल होते थे।आपसी बैर भाव मिटाकर होली मिलते थे।पर आज मंहगाई तथा आप…

दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश मे चुनाव एक पर्व ;

helpsir.blogspot.com दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश मेचुनाव एक पर्व  आदरणीय सम्पादक जी 
                           सादर प्रणाम         दुनिया के सबसे बड़े लोकतांत्रिक देश भारत में चुनाव पर्व की घोषणा कल दि०10-03-2019 को चुनाव पर्व की घोषणा के साथ ही आचार संहिता लागू हो चुकी है।चुनावी बिगुल बज चुका है।राजनीतिक दलएन.डी.ए.तथा यू.पी.ए. रूपी पाण्डव और कौरव सेना में शामिल होकर चुनावी महाभारत फतेह करनें के इरादे से 2019 लोकसभा रूपी कुरूक्षेत्र में कूद पड़े हैं। 29 मई को मतगणना में सभी दलों के प्रदर्शन का परिणाम घोषित हो जाएगा।         अगर वास्तविक चुनावीपरिवेशपर समीक्षात्मक नजर ड़ाली जाय,तो राजनीति मे कोई किसी का न तो स्थाई मित्र होता है न ही स्थाई दुश्मन। एक दूसरे के प्रतिद्वंदी  भी स्वार्थ के वशीभूत होकर केवल जीत के लिये किसी भी दल से टिकट पाने की कोशिश मे लग जाते हैं।

       सभी दल पूरे दम-खम के साथ खम ठोंक रहे हैं।लोकतंत्र मंदिर के पुजारी यानि मतदाता पाँच वर्ष में एक बार होनें वाली पूजा में आहुति डालनें को तैयार हैं।भारत में होने वाले लोकसभा चुनाव में सारी दुनिया की निगाहें टिकी रहती हैं…