Skip to main content

रसायनयुक्त फल और सब्जियाँ



आदरणीय सम्पादक जी सादर प्रणाम।

"मिलावट का जमाना है,कि जमाने में मिलावट है।जिधर देखो मिलावट में मिलावट ही मिलावट है।"

आज से दो दशक पहले केवल दूध में पानी मिलाने की बातें ही हुआ करती थी। अब पानी में दूध मिलाने की बात होती है।"पानी रे पानी तेरा रंग कैसा।जिसमें मिला दो लागे उस जैसा।"अब कालीमिर्च में पपीते के बीज,जीरा में सोया,अरहर की दाल में मटरी की दाल ,लाल मिर्च पाउडर में घुने ईंट का पाउडर,धनिया पाउडर में धनिया का डंठल और न जाने क्या-क्या?

हम अच्छे स्वास्थ्य के लिए फल और हरी सब्जियों का सेवन करते हैं।पर यह फल और सब्जियां अपने प्राकृतिक रूप में मिलें तब न।फलों को रसायनों के मेल से कच्ची ही पका कर बाजारों में उतार दी जाती हैं।इन रसायनों से लेपित फल फायदे की जगह नुकसान ज्यादा करते हैं।हाँ फायदा उपभोक्ताओं को नहीं केवल विक्रेताओं को ज्यादा होता है।सेबों की चमक बढ़ाने के लिए मोम की पालिश की जाती है।जिससे सेब चिर युवा दिखते हैं।आक्सीटोसिन के इंजेक्शन से लौकी एक ही रात में 6इंच से बढ़कर एक मीटर की हो जाती है।मिलावट खोर इसी तरह के रसायनों से अपने मुनाफे के लिए आम जनता को जहर परोसने का काम कर रहे हैं।उनको यह सोंचने की फुरसत कहाँ है कि यह अन्दाजा लगा सकें कि कितने भाई-बन्धु इस जहर से मरेंगे।मरते हैं तो ठेंगे से इनको तो अपने लाभ से मतलब है।

हरी सब्जियों में हरापन बढ़ाने के लिए रसायन और रंग लेपन किया जाता है।यह हरी दिखनेवाली सब्जी जहर भरी है।सभी उपभोक्ता इससे अन्जान होते हैं।सवाल यह उठता है कि हम क्या खाएं,क्या न खाएं?इस मिलावट के जमाने में शायद ही कोई शुद्ध चीज मिल जाए।वरना सभी चीजें मिलावट युक्त हैं।किसमें कौन सा खतरनाक रसायन मिला है।कहना मुश्किल है।

अतः सरकार से निवेदन है कि बाजारों में बिकने वाली फल,सब्जियों पर बारीकी से नजर रखने की जरूरत है कि यह रसायन लेपित तो नहीं है।मिलावट खोरों पर नजर रखने के अलावा इन्हें दण्डित करने की भी जरूरत है ताकि यह मानव जीवन से खिलवाड़ न कर सकें।

प्रमोद कुमार दीक्षित, सेहगों, रायबरेली।

Comments

Popular posts from this blog

पुराने बीजो का संरक्षण

नये खाद्यान्न बीजों या शंकर बीजों के आगमन के साथ खाद्यान्नों का उत्पादन अवश्य बढ़ा है।जिसके लिए हमारे कृषि वैज्ञानिक अवश्य ही बधाई के हकदार हैं।आज हम सवा अरब से अधिक लोगों को भरपेट भोजन देनें के अलावा निर्यात भी कर रहे हैं।जिस कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर अधिक अन्तर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष प्राप्त हो रहा है।लेकिन भारतीय किसानों द्वारा अन्धाधुंध यूरिया और अन्य उर्वरकों तथा कीटनाशकों के प्रयोग के कारण कुछ देशों का बासमती चावल के आर्डर वापस लेना पड़ा है।जिसके कारण हमें अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदगी उठानी पड़ी है।जो अवश्य ही चिन्ता का विषय है।कृषि वैज्ञानिकों द्वारा मृदा जांच द्वारा किसानों को प्रशिक्षित कर आवश्यक रसायनों के प्रयोगों के लिए किसानों को प्रशिक्षित किए जानें की आवश्यकता है।     हमारे पुराने जमाने के किसानों द्वारा पुराने बीजों एवं गोबर की खाद तथा खली से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में जो गजब का स्वाद एवं सुगंध मिलती थी वह अब नये बीजों एवं उर्वरकों एवं कीटनाशकों से उत्पादित खाद्यान्नों एवं सब्जियों में नहीं पाई जाती है।वह स्वाद,सोंधापन, सुगंध अब धीरे-धीरे गायब होती …

कबिरा शिक्षा जगत् मा भाँति भाँति के लोग।।भाग दो।।

प्रिय पाठक गणों आपने " कबीरा शिक्षा जगत मां भाँति भाँति के लोग ( भाग-एक ) में पढ़ा कि श्रीमती रामदुलारी तालुकेदारिया इण्टर कालेज सेंहगौ रायबरेली की प्रधानाचार्या, प्रबंधक, लिपिकों आदि के द्वारा किस प्रकार शिक्षा सत्र 2015--16 तथा शिक्षा सत्र2014--15 मे किस प्रकार लगभग उन्यासी छात्रों को फर्जी ढ़ंग से प्रवेश दिलाया गया । बाद मे इन्हीं छात्रों को अगले वर्ष इण्टर कक्षा की परीक्षा दिला दी गई। इसके लिए फर्जी कक्षा 12ब3 बनाई गई। बाकायदा फर्जी छात्रों का उपस्थिति रजिस्टर भी बनाया गया। परन्तु सभी छात्रों से प्रथम तथा द्वितीय वर्ष की कक्षाओं मे निर्धारित विद्यालय फीस लेने के बावजूद भी इसका विद्यालय के रजिस्टर पर इन्दराज नही किया गया। यह अनुमानित फीस लगभग साढ़े चार लाख रुपये के आसपास थी जिसे उपरोक्त अधिकारियों / विद्यालय के शिक्षा माफियाओं द्वारा अपहृत / गवन कर लिया hi गया। यथोचित कार्रवाई हेतु इस सम्पूर्ण विवरण को प्रार्थना पत्र मे लिखकर अपर सचिव के क्षेत्रीय कार्यालय इलाहाबाद को दिनाँक 25 /05 2016 को भेजा गया।
अब हम आपको इसके शर्मनाक पात्रों का परिचय करवा देते हैं।
       😢शर्मनाक…

भारतीय क्रिकेटर : भारत मे शेर विदेशों मे ढेर

बी.सी.सी.आई.दुनिया का सबसे धनी क्रिकेट संघ है।भारत में क्रिकेट इस कदर लोकप्रिय है कि इतनी लोकप्रियता राष्ट्रीय खेल हाकी को भी नहीं हासिल है।निःसंदेह कागजों पर टीम इंडिया काफी मजबूत मानी जाती है।नं.एक टेस्ट क्रिकेट में है।वनडे का विश्व कप खिताब दो बार तथा 20-20का भी विश्व कप खिताब एक बार जीत चुकी है।आज भी विराट कोहली विश्व के नं.एक बल्लेबाज हैं।लेकिन भारतीय प्राय दीप के बाहर विदेशी क्रिकेट "नेशन्स" में अर्थात विदेशी सरजमीं पर क्रिकेट श्रंखलाएं जीतनें का रिकॉर्ड कभी अच्छा नहीं रह है।विराट कोहली की कप्तानी में लोगों को इस बार सिरीज़ जीतने का ज्यादा भरोसा था।मौजूदा भारत V/S इंग्लैंड क्रिकेट श्रंखला 2018 में कोहली के प्रदर्शन को छोंड़ दिया जाय तो किसी बल्लेबाज का प्रदर्शन अच्छा नहीं कहा जा सकता।हाँ गेंदबाजों का प्रदर्शन उत्कृष्ट रहा है।केवल हम 20-20श्रंखला ही जीतनें में कामयाब रहे । बाकी इंग्लैंड नें जबरदस्त वापसी करते हुए बुरी तरीके से वनडे और टेस्ट श्रंखलाओं में मात दी है।बी.सी.सी.आई खिलाडियों के चयन में हुई चूक पर मंथन परअवश्य करेगी।टीम प्रबंधन पर प्रश्नचिन्ह ज्यादा लगे हैं करु…